Home Remedies For Heart Disease हृदय रोग के लिए घरेलू उपचार

Home Remedies For Heart Diseaseहृदय रोग उन सभी समस्याओं को संदर्भित करता है जो दिल की संरचना और कार्यों को प्रभावित करते हैं। जो अक्सर धमनियों को संकुचित करने का कारण बनता है, जिससे रक्त प्रवाह में बाधा आती है और दिल के दौरे या स्ट्रोक के लिए जोखिम बढ़ जाता है। हृदय रोग में कोरोनरी धमनी रोग, अनियमित दिल की धड़कन (एरिथिमिया), जन्मजात हृदय रोग, दिल की विफलता, दिल के वाल्व की समस्याएं आदि कारण शामिल होते हैं।

कारण और लक्षण हृदय रोग के प्रकार के आधार पर अलग – अलग होते हैं। फिर भी, कुछ सामान्य लक्षण सीने में दर्द, सांस की तकलीफ, धीमी या तेज दिल की धड़कन, हल्केपन, थकान और झुकाव होते हैं।

हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह, मोटापा, धूम्रपान, तनाव, नशीली दवाओं के दुरुपयोग, अत्यधिक शराब या कैफीन का सेवन, जीवनशैली, उम्र बढ़ने और परिवार के इतिहास जैसे कारण से दिल की बीमारी का जोखिम बढ़ता है।

हृदय रोग के उपचार के लिए डॉक्टर से परामर्श लेना आवश्यक है। इसके अलावा, आप कुछ घरेलू उपचार का उपयोग करके अपने दिल के स्वास्थ्य को बेहतर कर सकते है।

घरेलू उपचार लेने से पहले अपने डाक्टर से सलाह लें क्योकि कुछ घरेलू उपचार आप के इलाज मे उपयोग होने वाले दवाओ को प्रभावित कर सकते है।

दिल की बीमारी के लिए घरेलू उपचार यहां दिया गया हैं

1. लहसुन Garlic

कई अध्ययनों में लहसुन उच्च कोलेस्ट्रॉल , उच्च रक्तचाप, और कोरोनरी हृदय रोग जैसी स्थितियों के लिए लहसुन फायदेमंद पाया गया है। यह धमनियों की संकुचन को ठीक करने मे मदद करता है।

  • रोजाना एक या दो ताजा लहसुन का जावा (लौंग) खायें।
  • वैकल्पिक रूप से लहसुन का खुराक 600 से 1,200 मिलीग्राम प्रति दिन तीन बार ले सकते है।

नोट: यदि आप हृदय रोग का दवा ले रहे हों तो लहसुन लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

2. अर्जुन Arjun

अर्जुन दिल की बिमारी के लिए एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है। इसे एक प्राकृतिक कार्डियो-टॉनिक और कार्डियाक पुनर्स्थापन माना जाता है। अर्जुन कार्डियक मांसपेशियों को मजबूत करती है, धमनियों के संकुचन को ठीक करता है और रक्तचाप को कम करता है।

भारत में कस्तुरबा मेडिकल कॉलेज के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि अर्जुन के उपयोग करने से एंजिना के प्रतिकूल प्रभाव को 30 प्रतिशत तक कम करने में मदद मिला। इसके अलावा, इस जड़ी बूटी के लंबे समय तक उपयोग से कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ा।

  • अर्जुन पेड़ के छाल का पाउडर बनाकर आधा चम्मच पाउडर और थोड़ा सा शहद गर्म पानी के गिलास में मिलायें। कुछ महीनों के लिए रोजाना तीन बार पीएं।
  • वैकल्पिक रूप से, आप रोजाना हर आठ घंटे बाद 500 मिलीग्राम अर्जुन पाउडर उपर्युक्त विधि से ले सकते हैं। तीन महीने तक आप इसे लेना जारी रखें।

3. हल्दी turmeric

अध्ययन से पता चला कि हल्दी atherosclerosis (धमनियो के संकुचन) को रोकने में मदद कर सकता है। हल्दी में एक सक्रिय घटक होता है जिसे कर्क्यूमिन कहा जाता है जो कोलेस्ट्रॉल ऑक्सीकरण और क्लोट गठन को कम करके दिल के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है।

इसके अलावा, यह एलडीएल को कम करने में मदद करता है। यह एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट होने के नाते, मुक्त कणों को भी बेअसर करता है जो उम्र बढ़ने और कई पुरानी बीमारियों में योगदान देता है।

  • खाना पकाने में नियमित रूप से हल्दी का प्रयोग करें।
  • आप एक कप पानी या दूध में एक चम्मच हल्दी पाउडर उबालें। इसे कुछ हफ्तों तक रोजाना दो बार पीएं।
  • हल्दी का सामान्य खुराक 400 से 600 मिलीग्राम हल्दी पाउडर प्रतिदिन तीन बार है। अपने मामले मे उचित खुराक के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

हृदय रोग के लिए होमियोपैथिक दवाई

डॉक्टर से कब सलाह लेना चाहिए When To Advice From The Doctor

एक व्यक्ति को दिल के दौरे के पहले संकेतों पर तत्काल ध्यान देना चाहिए।

इसके अलावा, किसी व्यक्ति को दिल के बिमीरी का संकेत मिलने पर पहले डाक्टर से दिखाना चाहिए। अपने मर्जी से घरेलू उपचारो का उपयोग नहीं करना चाहिए।

यदि दर्द नया या असामान्य है, तो यह सुनिश्चित करने के लिए चिकित्सक से दिखाना चाहिए कि यह दिल की धड़कन या गैस के वजह से ज्यादा गंभीर तो नहीं है।

जब सीने में अक्सर मामूली दर्द होते हों और उसके कारण ज्ञात हो तो यह गंभीर स्थिति नहीं है। किसी भी गंभीर मामले, जैसे दिल का दौरा या एंजिना की स्थिति हो तो तुरंत चिकित्सक से इलाज करवाना चाहिए।

अगर किसी व्यक्ति को दिल की बिमारी का संदेह है, तो उन्हें घरेलू उपचार का उपयोग करने से बचना चाहिए और जितना जल्दी हो सके चिकित्सक से दिखाना चाहिए।

Share this post

Related Post

मोतियाबिंद क्य...

मोतियाबिंद आंख के सामान्य लेंस पर झिल्ली का बनना है। जिन लोगो को मोतियाबिंद हो जाता है, लेंस...

Read More

पेट में दर्द हो...

पेट दर्द का कई तरह के सामान्य कारण होते हैं, जैसे अपच होना या मांसपेशियों में खिंचाव होना...

Read More

वजन घटाने के सह...

वैज्ञानिकों ने शोध करके कई उपाय खोजा है जो वजन घटाने के लिए प्रभावकारी है। यहां कुछ सुझाव...

Read More