Due to COVID-19, only EMS service has started for shipping. Shipping charges are free on orders above $ 50 / -. For orders below $ 50 / -, EMS charges $ 12/- will have to pay by the buyer.

रजोनिवृत्ति को प्रभावित करने वाले हार्मोन Hormones Affecting Menopause

Hormones affecting menopauseमुख्यत: तीन हार्मोन हैं जो रजोनिवृत्ति (menopause) को प्रभावित करते है।

  1. प्रोजेस्टेरोन Progesterone
  2. एस्ट्रोजेन Oestrogen
  3. टेस्टोस्टेरोन Testosterone

प्रोजेस्टेरोन Progesterone

प्रोजेस्टेरोन, एक प्राकृतिक मादा हार्मोन है जो , रजोनिवृत्ति के समय कम हो जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रोजेस्टेरोन तभी उत्पादित होता है जब अंडाशय मे अंडे बनता है। प्रोजेस्टेरोन आम तौर पर उर्वरित अंडे और गर्भावस्था के लिए गर्भाशय को तैयार करता है। रजोनिवृत्ति के साथ, ओव्यूलेशन बंद हो जाता है, और इसलिए प्रोजेस्टेरोन का स्तर गिर जाता है।

प्रोजेस्टेरोन गर्भाशय में श्लेष्म से पतले से मोटे होने के लिए परिवर्तन करने का काम करता है। यह योनि में अम्लता के स्तर को कम करता है, स्तनों में दूध कोशिकाओं के लिए काम करता है।
रजोनिवृत्ति के समय प्रोजेस्टेरोन का स्तर गिरता हैं। इस अनौपचारिक चक्रों के दौरान, महिलाओं को हार्मोन के उतार-चढ़ाव के वजह से रजोनिवृत्ति के लक्षणों मे अनियमित रक्तस्राव का अनुभव हो सकता है।

एस्ट्रोजेन Oestrogen

एस्ट्रोजेन हार्मोन तीन हार्मोनो के समूह से बना होता है: ओस्ट्राडियोल, ऑस्ट्रोन और ओस्ट्रियल। यह हार्मोन अंडाशय में अंडों के चारों ओर कोशिकाओं से उत्पन्न होता है।
एस्ट्रोजेन हार्मोन योनि, गर्भाशय, त्वचा, आंत्र, रक्त, मस्तिष्क, जिगर, दिल, और अधिकांश शरीर में काम करता है। एस्ट्रोजे मांसपेशी टोन, एंडोमेट्रियम (गर्भाशय या गर्भ की अस्तर) को बनाए रखने में मदद करता है, गर्भाशय ग्रीवा (गर्भाशय का निचला भाग, गर्भाशय में यह योनि के साथ शामिल होता है), स्तनों के नलिकाएं, और हमारे हड्डियों के संरक्षण में यह मदद करता है ।
संक्रमण, या पेरिमेनोपोज के दौरान एस्ट्रोजन का उतार-चढ़ाव होता है। एस्ट्रोजेन का उत्पादन बढ़ सकता है क्योंकि कुछ परिधीय चक्रों में अंडाशय दो बार हो सकता है। इस हार्मोन का स्तर अधिक हो सकता हैं, लेकिन पेरिमेनोपोज में इस हार्मोन का स्तर बहुत कम हो सकता है। जब अंतिम अवधि (Period) का समय निकट हो और अंडो की संख्या में कमी आती है। उस समय एस्ट्रोजन का स्तर कम होता है, यह रजोनिवृत्ति में 90% तक कम होता है।

टेस्टोस्टेरोन Testosterone

टेस्टोस्टेरोन हार्मोन अंडाशय और शरीर के अन्य हिस्सों में उत्पादित होता है। हम अक्सर टेस्टोस्टेरोन के बारे में जानते हैं कि जैसे पुरुष हार्मोन, विशेष रूप से बालों के विकास और आवाज पर प्रभाव डालता है। वैसे ही टेस्टोस्टेरोन भी एक महत्वपूर्ण महिलाओं का हार्मोन है। महिलाओं की यौन इच्छा और उत्तेजना, समग्र भावनात्मक विकास , हड्डीयां और मांसपेशियों की ताकत में इसकी भूमिका महत्वपूर्ण है।
रजोनिवृत्ति के समय अचानक इसका स्तर नाटकीय रूप से गिरने के बजाय, टेस्टोस्टेरोन धीरे-धीरे उम्र के साथ घटता है। कुछ महिलाओं में इसका स्तर 20 से 40 साल की उम्र के बीच आधा तक गिर जाता हैं।

रजोनिवृत्ति कब होती है? When is menopause

ज्यादातर महिलायें 45 से 55 वर्ष की आयु के बीच रजोनिवृत्ति तक पहुंच जाती हैं। यदि देर से रजोनिवृत्ति का पारिवारिक इतिहास है तो कुछ महिलाओं को 60 वर्ष की उम्र के बाद में रजोनिवृत्ति होती है।
रजोनिवृत्ति (menopause) कभी-कभी कैंसर का उपचार, सर्जरी या कुछ अन्य कारणों से समय से पहले हो जाता है।

रजोनिवृत्ति के चरण

रजोनिवृत्ति के कई चरण होता है उनमे से मुख्यत: Perimenopause है।
Perimenopause की विशेषताएं:

  • रजोनिवृत्ति के लिए संक्रमण या अंडे का खत्म हो जाना।
  • य़ह औसतन 4-6 साल तक रहता है।
  • Periods अनियमित हो जाता है।
  • Periods कम या ज्यादा हो सकता है, ऐसा लंबे समय तक चलता है।
  • रजोनिवृत्ति के लक्षण सामान्यतया इस समय के दौरान धीरे-धीरे शुरू होता हैं।

कई महिलाएं हार्मोनल समस्या के वजह से पेरिमनोपोज लक्षण समझने लगती हैं। हार्मोन के स्तर, विशेष रूप से एस्ट्रोजेन कम हो सकते है। ऐसा इसलिए क्योंकि अंडाशय से अंडे बाहर निकलना शुरू कर रहे होते हैं, जो हार्मोन के स्तर को प्रभावित करता है। पिट्यूटरी ग्रंथि अंडे और एस्ट्रोजेन के स्तर को सामान्य बनाने वाले अंडाशय को रखने के प्रयास में अंडाशय के लिए – कूप-उत्तेजक हार्मोन (एफएसएच) और ल्यूटिनिज़िंग हार्मोन (एलएच) – सिग्नलिंग उत्तेजक हार्मोन (एलएचएच) के उच्च स्तर का उत्पादन करता है, इससे हार्मोन का स्तर अधिक हो सकते हैं। पेरिमेनोपोज का उपचार Treatment of Perimenopause
पेरिमेनोपोज का उपचार करने के लिए कोई परीक्षण नहीं है। यह विचार करके अच्छी तरह से पहचाना जाता है जैसे –
आपकी Periods की प्रकृति में परिवर्तन होना जैसे कि –
Periods मे क्या बदलाव हुआ है।
Periods कितने दिन मे आता था और यदि यह बदल गया है।
Periods कितना हल्का या भारी होता था और अब क्या बदल गया है।

पेरिमेनोपोज के लक्षण Symptoms of Perimenopause

पेरिमेनोपोज के दौरान हार्मोन मे बदलाव के वजह से कई महिलाओं को अधिक लक्षणों का अनुभव होता है।
पेरिमेनोपोज के लक्षण –

I- मूड मे बदलाव आना, चिड़चिड़ाहट और चिंतित रहना।
II- आपकी सामान्य गतिविधियों से सामना करने में असमर्थता महसूस करना
III- भूलना
IV- सिरदर्द
V- दर्द का बढ़ जोना
VI- सूजन

यदि आप निम्नलिखित लक्षणो का अनुभव करते हैं तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें

  • आपकी Periods के पैटर्न में परिवर्तन
  • Periods मे भारीपन होना
  • 8 दिनों से अधिक लंबी अवधि
  • अवधि जो 3 सप्ताह से कम समय मे आती है
  • अवधि जो 2-3 महीने से अधिक अलग होती है
  • दर्दनाक अवधि आपको घर पर रहने का कारण बनती है
  • अवधि के दौरान या बाद में, या सेक्स के बाद खून बह रहा है
  • उपर्युक्त सूचीबद्ध पेरिमनोपॉज़ल लक्षणों में से कोई भी हो तो डाक्टर से सलाह लें।

Homeopathic Remedy For Menopause – यदि आप रजोनिवृत्ति के इलाज के लिए होमियोपैथिक दवा लेना चाहते है तो klimaktolan, Menopause के इलाज मे मदद के लिए better दवा है। इस दवा के बारे मे अधिक जानकारी के लिए Click करें।

Share this post

Related Post

मोतियाबिंद के ...

मोतियाबिंद कई प्रकार का होता है जिसका वर्णन नीचे दिया गया है- • परमाणु मोतियाबिंद – यह लेंस...

Read More

मोतियाबिंद क्य...

मोतियाबिंद आंख के सामान्य लेंस पर झिल्ली का बनना है। जिन लोगो को मोतियाबिंद हो जाता है, लेंस...

Read More

पेट में दर्द हो...

पेट दर्द का कई तरह के सामान्य कारण होते हैं, जैसे अपच होना या मांसपेशियों में खिंचाव होना...

Read More